Tuesday, 28 May 2013

नारी ही बांधती सभी रिश्ते -नाते ...

नाते -रिश्ते
जैसे
खड़ी दीवारें ,
तपती धूप में खड़ी
भीगती बारिश में ,
सर्द हवाओं के थपेड़े झेलती ...

नारी ही बांधती
बन कर
छत की तरह
सभी रिश्ते -नाते ...

 सभी को समेट लेती
बचा लेती ,
तपती धूप
बरसती बारिश
सर्द हवाओं के  थपेड़ों से ...

मजबूत छत
 जैसी नारी
रिश्ते मिलते उसे
बर्फ की दीवारों से ...

बचाती -समेटती
नाते - रिश्तों को
नारी के हाथ क्या रहता
एक दिन
सिवाय
पिघली बर्फ के ...!




( चित्र गूगल से साभार )

11 comments:

  1. बिलकुल ... अपने आपको मिटा देती है नारी इन रिश्तों को संवारने के लिए ...

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  3. नमस्कार !
    आपकी यह रचना कल बुधवार (29-05-2013) को ब्लॉग प्रसारण: अंक 10 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  4. बहुत बेहतरीन सुंदर प्रस्तुति ,,,

    RECENT POST : बेटियाँ,

    ReplyDelete
  5. वाकई में नारी छत ,छावं,स्नेह ,ममता ,माधुर्य .......को जिवंत करती है

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा,लाजबाब प्रस्तुति,,

    Recent post: ओ प्यारी लली,

    ReplyDelete
  7. वाकई नारी जीवन को संवारती है
    वह है तो जीवन है
    बहुत सार्थक रचना
    बधाई


    तपती गरमी जेठ मास में---
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (29-05-2013) बुधवारीय चर्चा ---- 1259 सभी की अपने अपने रंग रूमानियत के संग .....! में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  9. रिश्ते तो नारी ही निभाती हैं हर हल में ...

    ReplyDelete
  10. नारी हर रिश्ते को निबाहने का प्रयास करती है .....वैसे कई बार रिश्ते नारी की वजह से टूट भी जाते हैं ....

    ReplyDelete
  11. सुन्दर अभिव्यक्ति 

    ReplyDelete