Tuesday, 25 February 2014

ऐसा भी होता है कभी !

कोई अपना ,
अनजान सा बन
चुपके से आ
मन के
आंगन में झांक जाये
और
पता भी ना चले

कोई अपना
बन अनजाना सा
बिन आहट
बिन परछाई आ कर चला जाये

ऐसा भी होता है कभी !
मन की गीली मिट्टी
पर पड़े
क़दमों के निशान
उस अनजाने के अपने होने की
गवाही दे ही जाते हैं


7 comments:

  1. sundar v sarthak rachna hetu badhai

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार आपका।

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 27-02-2014 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    आभार |

    ReplyDelete
  4. उम्दा रचना ,बहुत खूब

    ReplyDelete
  5. बहुत ही लाजवाब

    RECENT POST.......खुशकिस्मत हूँ मैं

    ReplyDelete