Wednesday, 24 February 2016

क्यूंकि तुम रेत पर कदमों के निशां जो छोड़ जाते हो !

 समुन्दर से
मन की लहरें
भागती है क्यूँ
बार -बार
किनारे की तरफ !

तम्हें तलाशती है !
सच में !
या
शायद उनको
मालूम है
तुम्हारा वहां आ जाना
बिन बताये
बिन आहट !

क्यूंकि  तुम
जाने - अनजाने में
रेत पर कदमों
के निशां
जो छोड़ जाते हो !


7 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (26.02.2016) को "कर्तव्य और दायित्व " (चर्चा अंक-2264)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
  2. क्या कहने......

    जाने - अनजाने में
    रेत पर कदमों
    के निशां
    जो छोड़ जाते हो !

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  4. रेत पे पड़े क़दमों से ही उनके आने का एहसास हो जाता है ....
    बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  5. अब RS 50,000/महीना कमायें
    Work on FB & WhatsApp only ⏰ Work only 30 Minutes in a day
    आइये Digital India से जुड़िये..... और घर बैठे लाखों कमाये....... और दूसरे को भी कमाने का मौका दीजिए... कोई इनवेस्टमेन्ट नहीं है...... आईये बेरोजगारी को भारत से उखाड़ फैंकने मे हमारी मदद कीजिये.... 🏻 🏻 बस आप इस whatsApp no 8017025376 पर " INFO " लिख कर send की karo or

    ReplyDelete
  6. Part time home based job, without investment "NO REGISTERTION FEES " Earn daily 400-500 by working 2 hour per day For all male and female more information write "JOIN" And Whatsapp us on this no. 9855933410

    ReplyDelete